Home Jammu Kashmir Jammu जम्मू-कश्मीर के पीएम पैकेज कर्मियों के लिए प्रशासन ने लिया यह फैसला

जम्मू-कश्मीर के पीएम पैकेज कर्मियों के लिए प्रशासन ने लिया यह फैसला

206

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि खबर यह है कि उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने कश्मीरी पंडितों के लिए विस्थापित कॉलोनी जगती में आयोजित विशेष शासन शिविर में भाग लिया। साथ ही उन्होंने कहा कि सुरक्षा ऑडिट के बाद ही 80 से 85 फीसदी पीएम पैकेज कर्मचारियों को जिला और तहसील मुख्यालयों में तैनात किया गया है।
जानकारी के अनुसार प्रशासन ने यह सुनिश्चित किया है कि दूरदराज के इलाकों में स्थित किसी भी कार्यालय या स्कूल में इन कर्मचारियों की तैनाती नहीं हो। राहुल गांधी के बयान को दुर्भावनापूर्ण बताते हुए कहा कि मेरे दरवाजे सभी के लिए खुले हैं। 12 दिवसीय शिविर छह स्थानों पर चलेगा और 18 विभागों के स्टाल लगेंगे।
इसके साथ ही शिविर का उद्देश्य कश्मीरी प्रवासियों के लिए सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की सौ फीसदी संतृप्ति सुनिश्चित करना है। उप राज्यपाल ने कहा कि कश्मीरी पंडितों पर हमला सिर्फ एक व्यक्ति पर नहीं, बल्कि भारत की अखंडता पर हमला है।
जानकारी के अनुसार सरकार सभी मुद्दों के समाधान के लिए पूरी संवेदनशीलता और प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही हैं। जिन कर्मचारियों ने ड्यूटी ज्वाइन की है उनका वेतन जारी कर दिया है। पीएम पैकेज के तहत लगभग सभी पद भर दिए गए हैं। सरकार ने छह आवासों के निर्माण की भी व्यवस्था की हैं। आपको बता दें कि अप्रैल तक 1200 और दिसंबर तक 2700 आवास बनकर तैयार हो जाएंगे। कर्मचारियों की लंबित पद्दोन्नति प्रक्रिया पूरी कर ली है। साथ ही अराजपत्रित से राजपत्रित में पदोन्नति की प्रक्रिया चल रही है, जो इस माह के अंत तक पूरी हो जाएगी।
जानकारी के अनुसार कश्मीरी पंडित की संपत्ति वापस लेने के लिए कार्रवाई करते हुए पोर्टल पर मिले आठ हजार आवेदनों में से लगभग छह हजार मामलों का समाधान कर लिया है। कार्यक्रम के दौरान समुदाय के युवाओं को स्वरोजगार, कौशल के लिए नामांकन भी किया गया।

Previous articleजम्मू-कश्मीर के डोडा में दरार वाले इलाके में पहुंची यह टीम, जानिये क्या लिया गया फैसला
Next articleJammu : स्टंट बाइकर्स बन रहें है लोगों के लिए आफत, मरते मरते यूं बचा युवक