Home Jammu Kashmir Jammu Jammu Kashmir Weather : इस दिन से बारिश-बर्फबारी के आसार, मौसम विभाग...

Jammu Kashmir Weather : इस दिन से बारिश-बर्फबारी के आसार, मौसम विभाग ने कहा इन चीजोें से करें परहेेज

311
SHARE

पिछले 24 घंटों में श्रीनगर, काजीगुंड, कुकरनाग, बनिहाल, बटोत, कटड़ा भद्रवाह में हुई हल्की बारिश के बाद तापमान में हल्की गिरावट आई है। कश्मीर के काजीगुंड को छोड़ सभी जिलों में न्यूनतम तापमान आठ डिग्री सेल्सियस से नीचे आ गया है। दो दिनों तक हल्की बारिश और बादल छाए रहने के बाद मंगलवार सुबह से ही मौसम साफ है। वीरवार तक मौसम शुष्क रहने की संभावना है। वहीं कश्मीर में 22 से 24 तक उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी की संभावना है। ऐसे मौसम विभाग ने अभी से लोगों को हिदायत दी है कि इस दौरान वे पहाड़ी सफर से परहेज करें। बारिश व बर्फबारी उनके लिए बाधा बन सकते हैं।
पिछले 24 घंटों में गुलमर्ग में 7.0, कुपवाड़ा में 2.0 एमएम बारिश दर्ज की गई।काजीगुंड में 8.2, पहलगाम में 1.1, कुकरनाग में 7.6, गुलमर्ग में 1.8 एमएम जबकि बनिहाल में 1.8, बटोत में 4.8, बटोत में 4.8, भद्रवाह में 2.3 एमएम बारिश दर्ज की गई।
मौसम विज्ञान केंद्र, श्रीनगर से मिली जानकारी अनुसार जम्मू का अधिकतम तापमान 30.6 डिग्री सेल्सियस रहा। न्यूनतम तापमान 17.1 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया। वहीं माता वैष्णो देवी के आधार शिविर कटड़ा का अधिकतम तापमान 28.4 डिग्री सेल्सियस रहा जबकि न्यूनतम तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस रहा। बनिहाल का अधिकतम तापमान 20.0, न्यूनतम तापमान 12.8 डिग्री सेल्सियस रहा। बटोत का अधिकतम तापमान 18.9, न्यूनतम तापमान 11.4 डिग्री सेल्सियस रहा। भद्रवाह का अधिकतम तापमान 20.1 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं श्रीनगर का अधिकतम तापमान 17.0 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान 7.7 डिग्री सेल्सियस रहा। काजीगुंड का अधिकतम तापमान 17.6, न्यूनतम तापमान 8.2 डिग्री सेल्सियस रहा।
पहलगाम का अधिकतम तापमान 14.5, न्यूनतम तापमान 4.8 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया। कुपवाड़ा का अधिकतम तामपान 18.3 जबकि न्यूनतम तापमान 6.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कुकरनाग का अधिकतम तापमान 15.1, न्यूनतम तापमान 7.2 डिग्री सेल्सियस, गुलमर्ग का अधिकतम तापमान 7.0 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान 2.0 डिग्री सेल्सियस रहा। इस वर्ष मानसून की बारिश सामान्य से कम रही है। अक्टूबर में भी अभी तक बारिश नाममात्र ही हुई है।