Home Jammu Kashmir Jammu Jammu: श्मशान घाटों-कब्रिस्तानों की हालत पर मांगी रिपोर्ट, जानिए क्यूं

Jammu: श्मशान घाटों-कब्रिस्तानों की हालत पर मांगी रिपोर्ट, जानिए क्यूं

686
SHARE

Jammu: श्मशान घाटों-कब्रिस्तानों की हालत पर हाईकोर्ट ने मांगी रिपोर्ट, कहा-विकास पर कितना पैसा खर्च हुआ हाईकोर्ट के डिवीजन बेंच ने जम्मू के श्मशान घाटों व कब्रिस्तानों की मौजूदा हालत व यहां करवाए जा रहे विकास कार्याें पर रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया है।
मामले की सुनवाई के दौरान जम्मू नगरनिगम ने जोगी गेट समेत कई अन्य श्मशान घाटों में करवाए जा रहे विकास कार्यों पर रिपोर्ट पेश की थी, जिस पर असंतोष प्रकट करते हुए बेंच ने पूछा है कि बताएं कि क्या विकास कार्य करवाए गए और कितना पैसा खर्च किया गया है।
एडवोकेट सुमित नैय्यर की ओर से दायर जनहित याचिका में कहा गया है कि जोगी गेट में करोड़ों रुपये खर्च कर बनाया गया इलेक्ट्रिक प्लांट बेकार पड़ा है। शिव नगर श्मशान घाट के दोनों तरफ खुला नाला है। गाडीगढ़, चट्ठा श्मशान घाट की दयनीय हालत है तो भौर कैंप के श्मशान घाट में शेड भी नहीं है। न बैठने की व्यवस्था है और न पानी की। इसी तरह अकलपुर, संग्रामपुर व पटनयाल शमशान घाट में कोई बुनियादी सुविधा नहीं है। इसके चलते लोगों को काफी असुविधाएं हो रही हैं। कई बार प्रशासन से इस ओर ध्यान देने की मांग लोग कर चुके हैं।
जनहित याचिका का निपटारा : जम्मू-कश्मीर में डिसेबिल्टी एक्ट लागू करने की मांग को लेकर दायर जनहित याचिका में सरकार का पक्ष सुनने के बाद हाईकोर्ट के डिवीजन बेंच ने जनहित याचिका पर सुनवाई बंद कर दी है। सरकार ने अपने जवाब में बेंच को बताया कि एक्ट को जम्मू-कश्मीर में लागू किया गया है और इसके तहत दिव्यांगों को सभी लाभ व सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। सभी जरूरतमंदों को उनके हक दिए जा रहे हैं।