Home Jammu Kashmir Jammu Jammu: दुकान बंद कर रहे सगे भाइयों पर हमला कर नकदी, लैपटाप...

Jammu: दुकान बंद कर रहे सगे भाइयों पर हमला कर नकदी, लैपटाप और बहीखाता छीना

906
SHARE

सीमावर्ती रामगढ़ कस्बे में सोमवार शाम को मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए तीन युवकों ने हार्डवेयर की दुकान चलाने वाले सगे भाइयों पर कातिलाना हमला कर उनसे नकदी, एक लैपटाप व दुकान का बही खाता लूट लिया। इतना ही नहीं हमलावरों ने दुकान के बाहर खड़े दुकानदार के चार वर्षीय बेटे के अपहरण का भी प्रयास भी किया। बेटे को उठाते देख पिता व चाचा हमलावरों से भिड़ गए।एक हमलावर से हथियार छीन कर उस पर पलटवार करना शुरू कर दिया। जवाबी हमले में एक हमलावर घायल हो गया, लेकिन वह भी साथियों के साथ मोटरसाइकिल पर सवार होकर भागने में कामयाब हो गया। घटना रामगढ़ कस्बे में शाम को हुई। उस समय बाजार में दुकानें बंद हो रही थीं। इसी बाजार में रामगढ़ कस्बे में रहने वाले 35 वर्षीय मो¨हद्र पाल ¨सह व उनके भाई 28 वर्षीय मुनीश पाल ¨सह दोनों पुत्र मदन चौधरी की हार्डवेयर की दुकान है। यह इलाके की नामी दुकान है, जहां रोजाना लाखों रुपये की खरीदारी लोग करने पहुंचते हैं।
शाम को जब दोनों भाई दुकान से नकदी, लैपटाप व दिन भर के लेखा-जोखा का बहीखाता लेकर बाहर ताला लगा रहे थे, उसी दौरान मोटरसाइकिल पर सवार तीन युवक पहुंचे। उन्होंने वहां पहुंचते ही दोनों भाइयों पर तेजधार हथियार से हमला कर उनसे नकदी, लैपटाप व बही खाता किताब छीन लिया। इतने में उनकी नजर दुकान के बाहर खड़े मो¨हद्र पाल ¨सह के चार वर्षीय बेटे मन्नु पर पड़ी तो उन्होंने उसे भी उठाने का प्रयास किया। इस पर घायल हुए दोनों भाई हमलावरों पर टूट पड़े। उन्होंने हिम्मत दिखाते हुए एक हमलावर से टोका छीन लिया और उन पर पलटवार कर दिया।
इस हमले के बाद हमलावर बच्चे को छोड़कर फरार हो गए, लेकिन वे नकदी, लैपटाप व बही खाता को अपने साथ ले जाने में कामयाब हो गए। उधर, इस वारदात की जानकारी पाते ही स्थानीय लोग भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने पुलिस को इस बारे में सूचित कर दिया। सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने दोनों भाइयों को उपचार के लिए स्थानीय अस्पताल पहुंचाया जहां से उन्हें जीएमसी जम्मू रेफर कर दिया गया। पुलिस ने इस संदर्भ में मामला दर्ज कर हमलावरों की तलाश शुरू कर दी है। एसएसपी सांबा राजेश शर्मा का कहना है कि इलाके में सीसीटीवी कैमरों को खंगाला जा रहा है। हमलावरों का पता लगाने के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं।