Home Jammu Kashmir Kashmir सिटीजनशिप बिल पर महबूबा मुफ्ती का ट्वीट – भारत मुसलमानों का देश...

सिटीजनशिप बिल पर महबूबा मुफ्ती का ट्वीट – भारत मुसलमानों का देश नहीं रहा

391
SHARE

नागरिकता (संशोधन) विधेयक पर कैबिनेट की मुहर के बाद सियासी घमासान मचा हुआ है। ऐसे में जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी सना इल्तजा जावेद ने बिल को लेकर कड़ी नाराजगी जाहीर की है।

पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती के ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि इंडिया- नो कंट्री फ़ॉर मुस्लिम्स। यानि भारत – मुसलमानों का देश नहीं। मालूम हो कि महबूबा मुफ्ती आर्टिकल 370 को हटाए जाने के बाद से ही 5 अगस्त से नजरबंद हैं। इसके बाद से ही उनकी बेटी सना इल्तिजा, महबूबा मुफ्ती के सभी सोशल मीडिया अकाउंट हैंडल कर रही हैं।
नागरिकता संशोधन विधेयक को बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने स्वीकृति दे दी है। इस विधेयक को अगले सप्ताह लोकसभा में पेश किया जा सकता है। इस बिल के ज़रिये पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता दी जा सकेगी।

नागरिकता (संशोधन) विधेयक का उद्देश्य छह समुदायों – हिन्दू, ईसाई, सिख, जैन, बौद्ध तथा पारसी – के लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करना है। विपक्ष ने इस विधेयक की आलोचना करते हुए इसे धार्मिक आधार पर भेदभावपूर्ण बताया। उनकी मांग है कि श्रीलंका और नेपाल के मुस्लिमों को भी इसमें शामिल किया जाए।
असम एवं अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में इस विधेयक का विरोध हो रहा है, जहां अधिकतर हिंदू प्रवासी रह रहे हैं। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, द्रमुक, सपा, राजद, माकपा, बीजद और असम में भाजपा की सहयोगी अगप विधेयक का विरोध कर रही हैं। जबकि, अकाली दल, जदयू, अन्नाद्रमुक सरकार के साथ हैं।