Home Jammu Kashmir Kashmir 10 दिन बाद जवान को आना था छुट्टी, इससे पहले ही घर...

10 दिन बाद जवान को आना था छुट्टी, इससे पहले ही घर पहुंची शहादत की खबर

612
SHARE

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के दलीपोरा इलाके में गुरुवार को सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया। मुठभेड़ में रोहतक के महम कस्बे के बेहल्बा गांव का संदीप शहीद हो गया। इस मुठभेड़ में एक जवान समेत दो लोग जख्मी हुए हैं। आतंकी एक घर में छिपे थे। संदीप की शहादत की खबर मिलते ही पूरे गांव में मातम छाया है। संदीप का पार्थिव शरीर शुक्रवार को अंतिम संस्कार के लिए गांव लाया जाएगा।

तीन भाइयों में दूसरे नंबर का था संदीप
संदीप के पिता सतबीर किसान हैं और मां बाला गृहणी हैं। पिता ने बताया कि सतबीर का जन्म 05 जुलाई 1991 को हुआ था। वह पढ़ाई में शुरूआत से ही तेज था। 2012 में सेना में बतौर कांस्टेबल भर्ती हुआ था। 2017 में उसकी नीरू से शादी हुई थी। सतबीर से उसकी दो दिन पहले बात हुई थी। उसने बताया था कि 26 मई को छुट्टी आ रहा है। छुट्टी से पहली ही घर शहादत की खबर पहुंच गई।

खुफिया जानकारी के आधार पर चला था अभियान
सुरक्षाबलों को आतंकियों के मौजूदगी के बारे में खुफिया जानकारी मिली थी। राष्ट्रीय राइफल (आरआर), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान दल ने तड़के दलीपोरा में अभियान शुरू किया। कार्रवाई के दौरान सुरक्षाबलों ने इलाके के बाहर जाने वाले रास्तों को बंद कर दिया।

जवानों के गांव पहुंचने पर पहले आतंकियों ने गोलीबारी शुरू की। सुरक्षाबलों की जवाबी कार्रवाई में 3 आतंकी मारे गए। संदीप एनकाउंटर में घायल हो गए थे। उन्हें उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।