Home Jammu Kashmir Jammu जम्मू कश्मीर में महिलाओं पर अपराध और उत्पीड़न का बड़ गया है...

जम्मू कश्मीर में महिलाओं पर अपराध और उत्पीड़न का बड़ गया है ग्राफ

247
SHARE

श्रीनगर: प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध और उत्पीड़न के मामले बढ़ने लगे हैं। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट में यह तथ्य सामने आया है। इसके मुताबिक वर्ष 2020 में जम्मू कश्मीर में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 10 फीसद बढ़ोतरी हुई है। इनमें कई अपराध हत्या और हत्या की कोशिश के हैं। लद्दाख समेत जम्मू कश्मीर में वर्ष 2019 में महिलाओं के खिलाफ 3069 और 2020 में 3414 अपराधिक घटनाएं हुई हैं। हत्या के मामलों में 25 फीसद इजाफा

वर्ष 2020 में हत्या के 149 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2019 में 119 हत्याओें के मामले सामने आए थे। वर्ष 2020 में वर्ष 2019 के मुकाबले हत्या के मामलों में 25 फीसद की बढोतरी हुई है। 9.6 फीसद महिलाओं ने घरेलू प्रताड़ना और शारीरिक शोषण झेला
पिछले वर्ष अक्टूबर में राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे (एनएफएचएस) केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जम्मू कश्मीर में एक सर्वे कराया था। इस सर्वे में जम्मू कश्मीर में महिलाओं के घरेलू उत्पीड़न को लेकर कई सनसनीखेज तथ्य सामने आए हैं। सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2019-20 के दौरान जम्मू कश्मीर में 18-49 वर्ष के आयुवर्ग में 9.6 फीसद महिलाओं ने घरेलू प्रताड़ना और शारीरिक शोषण व छेड़छाड़ को झेला है। पाच वर्ष पूर्व जब जम्मू कश्मीर एक पूर्ण राज्य था, उस समय 9.4 फीसद महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार थीं। शहरी इलाकों के बजाय ग्रामीण इलाकों में महिलाओं के प्रति अपराध दर ज्यादा थी। बच्चों के प्रति अपराध बढ़ा तो अपहरण के मामले घटे

एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चों के प्रति अपराधों में भी 29 फीसद की बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2018 में प्रदेश में बच्चों के प्रति अपराध के 473 और 2019 में 470 मामले दर्ज किए गए थे। वहीं, 2020 में 606 मामले दर्ज किए गए हैं। आत्महत्या के मामलों मे भी बढ़ोतरी देखी गई है। बीते साल 472 लोगों द्वारा आत्महत्या का प्रयास किया गया है। बीते तीन वर्ष में जम्मू कश्मीर में अपहरण के मामलों में कमी आई है। वर्ष 2020 के आंकड़े हैरानी भरे

-87 मामले महिलाओं की हत्या की कोशिश के

-35 आत्महत्या के लिए उकसाने और दहेज हत्या के नौ मामले दर्ज किए गए।

-243 मामले दर्ज हुए तीन किशोरियों समेत 247 महिलाओं के साथ दुष्कर्म के

-1639 मामले महिलाओं के साथ मारपीट व हमले और क्रूरता के 349 केस दर्ज

-1744 मामले दर्ज किए गए हैं बलात्कार के इरादे से महिलाओें पर हमले के

-30 मामले महिलाओं का पीछा करने, उन्हें डराने व उनके साथ छेड़खानी के आए