Home Jammu Kashmir Jammu हिंदुस्तानी सेना का दमदार एक्शन, 5 साल में मार डाले इतने आतंकवादी

हिंदुस्तानी सेना का दमदार एक्शन, 5 साल में मार डाले इतने आतंकवादी

517
SHARE

जम्मू-कश्मीर में सेना का ‘ऑपरेशन ऑल आउट’ सफल रहा है। पिछले पांच साल में सेना ने 963 आतंकवादियों को मार गिराया है। हालांकि एक तथ्य ये भी है कि जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की कोशिशें लगातार बढ़ रही हैं। मोदी सरकार ने सेना के जवानों से साफ कह दिया है कि घाटी से आतंकवादियों का सफाया होना चाहिए।

लोकसभा में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए गृह मंत्रालय ने बताया कि सेना ने पिछले पांच साल में यानी 2014 से 2019 के बीच 963 आतंकवादी मारे हैं। केंद्र सरकार ने आतंक पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। हालांकि इस दौरान करीब 413 सुरक्षाबलों ने भी अपनी जान गंवाई है।

भले ही सेना चुन-चुनकर आतंकवादियों का सफाया कर रही हो लेकिन पिछले तीन सालों में जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 2016 में 119 बार घुसपैठ हुई। इसमें 35 घुसपैठिए मारे गए और एक्शन में 15 जवान शहीद हुए। 2017 में 136 बार हुई घुसपैठ हुई। इस मुठभेड़ में 59 घुसपैठिए मारे गए और एक्शन में 7 जवान शहीद हुए। वहीं 2018 में 143 बार हुई घुसपैठ हुई। इस साल मुठभेड़ में 32 घुसपैठिए मारे गए और एक्शन में 5 जवान शहीद हुए।

साल 2016, 2017, 2018 और 2019 में सेना ने कई बड़े कमांडरों को निशाना बनाया। इस लिस्ट में सब्जार अहमद भट्ट, बुरहान वानी, जुनैद मट्टू, बशीर लश्करी, अबू लल्हारी, जाकिर मूसा, जीनल उल इस्लाम, सद्दाम पाडर, नाविद जट्ट, समीर टाइगर, मन्नान वानी का नाम शामिल था। इन कमांडरों को मारने का फायदा आतंक की कमर तोड़ने में मिला।

जम्मू-कश्मीर में मारे गए ज्यादा कमांडरों पर इनाम घोषित था। ऐसे में सेना ने मौका मिलते ही कमांडरों को ठिकाने लगा दिया, ताकि आतंकियों का संगठन कमजोर पड़ सके। हिजबुल के सब्जार अहमद भट्ट के सिर पर 10 लाख का इनाम था। वहीं लश्कर ए तैयबा के तीन आतंकवादी बशीर लश्करी, अबू लल्हारी और जुनैद मट्टू के सिर पर भी 10 लाख रुपए का इनाम थी, जिसे सेना ने ढेर कर दिया। हिजबुल मुजाहिद्दीन के बुरहान वानी, जीनत उल इस्लाम, सद्दाम पाडर पर भी 10 लाख रुपए का इनाम था, जिन्हें सेना ने मार गिराया।