Home National हिंदी भाषा के बढ़ते कदम- इंटरनेट पर हिंदी का दर बढ़ा 94%

हिंदी भाषा के बढ़ते कदम- इंटरनेट पर हिंदी का दर बढ़ा 94%

3428
SHARE

कहते हैं कि भाषा में सबसे ज़्यादा ताकत होती है क्योंकि इसी से हम एक दूसरे तक अपने विचार पहुंचा सकते हैं और एक तरह से दुनिया के 7. 7 बिलियन की आबादी इस भाषा के कारण जुडी हुई है। उसी भाषा में एक प्यारी सी हिंदी भाषा है जिसके हर शब्द में शहद से मिठास महसूस होती है। अगर हिंदी को मुझे कुछ शब्दों में बयान करना हो तो वो कुछ ऐसे होती है।

“संस्कार से सजी-धजी है, सिर पर न्यारी बिंदी है,इससे प्यारी नहीं है भाषा, सबसे प्यारी हिंदी है।”

हर साल 14 सितंबर को देशभर में हिंदी दिवस मनाया जाता है। आजादी मिलने के दो साल बाद 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा में एक मत से हिंदी को राजभाषा घोषित किया गया था और इसके बाद से हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

देश जब साल 1947 में अंग्रेजों की हुकूमत से आजाद हुआ था तो देश के सामने भाषा को लेकर सबसे बड़ा एक सवाल खड़ा था कि भारत की राष्ट्रभाषा कौन सी होगी। ये सवाल बेहद अहम था इसलिए काफी विचार करने के बाद हिंदी और अंग्रेजी को नए राष्ट्र की भाषा के रूप में चुना गया। संविधान सभा ने देवनागरी लिपी में लिखी हिंदी को राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया। तो इस तरह से 14 सितंबर, 1949 के दिन राजभाषा का दर्जा मिला था।

देश में हिंदी भाषा सबसे ज़्यादा बोली जाती है। हिन्‍दी विश्‍व में चौथी ऐसी भाषा है जिसे सबसे ज्‍यादा लोग बोलते हैं। ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक वर्तमान में भारत में 43.63 फीसदी लोग हिन्‍दी भाषा बोलते हैं। जबकि 2001 में यह आंकड़ा 41.3 फीसदी था। तब 42 करोड़ लोग हिन्दी बोलते थे। जनगणना के आंकड़ों के अनुसार 2001 से 2011 के बीच हिन्दी बोलने वाले 10 करोड़ लोग बढ़ गए। साफ है कि हिन्दी देश की सबसे तेजी से बढ़ती भाषा है।

पाकिस्‍तान, नेपाल, बांग्‍लादेश, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, न्‍यूजीलैंड, संयुक्‍त अरब अमीरात, युगांडा, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद, मॉरिशस और साउथ अफ्रीका समेत कई देशों में हिन्‍दी बोली जाती है। इंटरनेट के प्रसार से किसी को अगर सबसे ज्यादा फायदा हुआ है तो वह हिंदी है। 2016 में डिजिटल माध्यम में हिंदी समाचार पढ़ने वालों की संख्या 5.5 करोड़ थी, जो 2021 में बढ़कर 14.4 करोड़ होने का अनुमान है। 2021 में अंग्रेजी की तुलना में हिंदी में इंटरनेट उपयोग करने वालों की संख्या अधिक हो जाएगी। अनुमान के मुताबिक 20.1 करोड़ लोग हिंदी उपयोग करने लगेंगे। गूगल के अनुसार हिंदी में कंटेंट पढ़ने वाले हर साल 94 फीसद बढ़ रहे हैं, जबकि अंग्रेजी में यह दर सालाना 17 फीसद है

माना कि हिंदी भाषा भारत में सबसे ज़्यादा बोलनेवाली भाषा है लेकिन हिंदी के आलावा अलग अलग राज्य एवं क्षेत्रों में कईं अन्य भाषा बोली जाती है जिस कारण हिंदी भाषा में अन्य भाषाओं का भी मिश्रण देखने को मिलता है। हिंदी में बातचीत के दौरान अधिकतर इंग्लिश,उर्दू या और भाषाओं की झलक मिलती है। हमारे लिए काफी गौरव की बात है कि हिंदी भाषा का प्रयोग अब डिजिटल प्लेटफार्म पर भी किया जा रहा और साथ ही में फिल्मों के द्वारा हिंदी भाषा का प्रसार किया जा रहा लेकिन बस चिंता का विषय यही है कि हिंदी के प्रयोग को सही से जानने वालों की संख्या अभी भी कम है।