Home Jammu Kashmir Jammu रियासत में आईईडी धमाकों में इज़ाफा बना चिंता का विषय, सुरक्षा एजेंसियों...

रियासत में आईईडी धमाकों में इज़ाफा बना चिंता का विषय, सुरक्षा एजेंसियों ने ऐसी और वारदातों की जताई आशंका

290
SHARE

पहले पुलवामा, फिर बनिहाल और उसके बाद फिर से पुलवामा। सुरक्षाबलों के काफिलों को आईईडी से भरी गाड़ियों से निशाना बनाने की घटनाओं से सुरक्षा एजेंसियां सकते में आ गईं हैं।

सुरक्षा एजेंसियों और फोरेंसिक विशेषज्ञों ने जम्मू-कश्मीर में ऐसे और धमाकों की चेतावनी दी है। यह चेतावनी सोमवार को साऊथ कश्मीर के पुलवामा में अरिहल-लस्सीपोरा मार्ग पर सेना की 44 राष्ट्रीय राईफल्स की पेट्रोल पार्टी पर किए गए हमले के बाद जारी की गई है जिसमें दो जवान शहीद हो गए और सात अन्य जवानों के साथ-साथ दो सिविलियन भी घायल हुए हैं। सुरक्षा एजेंसियों की मानें तो आतंकी संगठन ऐसे धमाकों की भयावह योजनाएं इसलिए बना रहे हैं ताकि इनमें उन्हें कम और सुरक्षाबलों को ज़्यादा से ज़यादा नुकसान पहुंचाया जा सके।

नकसलवाद प्रभावित इलाकों की तर्ज़ पर ही जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों ने अब इस प्रक्रिया से सुरक्षाबलों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है क्योंकि आईईडी एक तो सस्ता होता है और साथ ही साथ भारी नुकसान पहुंचाता है और 14 फरवरी को पुलवामा में हुए हमले में यह साबित भी हो गया था। रिमोट कंट्रोल आईईडी इसका जीता-जागता उदाहरण है जिसमें सुरक्षाबलों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

सुरक्षा एजेंसियों का यह भी कहना है कि मौजूदा समय में इंटरनेट की सहायता से आईईडी तैयार करना कोई मुश्किल काम नहीं है। आतंकी संगठनों के लिए कश्मीर में आईईडी बनाने की सामग्री पहुंचाना मुश्किल काम नहीं है और ऐसे हमलों में स्थानीय आतंकी की मदद आतंकी संगठनों के लिए बेहद कारगर साबित हो रही है।