Home Jammu Kashmir राहुल गांधी मेरे निमंत्रण को एक व्यापार समझ बैठे : राज्यपाल

राहुल गांधी मेरे निमंत्रण को एक व्यापार समझ बैठे : राज्यपाल

561
SHARE

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि राहुल गांधी मेरे निमंत्रण को एक व्यापार समझ बैठे। मैंने कहा था कि अगर आप हम पर विश्वास नहीं करते हैं तो आओ और घाटी का दौरा करो। इसके बाद उन्होंने कहा कि मैं नजरबंद लोगों, नेताओं और सेना से मिलूंगा। इन बातों के लेकर मैंने कहा कि मैं इन शर्तों को स्वीकार नहीं कर सकता और इसे प्रशासन पर छोड़ दूंगा।

 

राज्यपाल ने यह भी कहा कि हमने अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया है। साथ ही आने वाले दिनों में हम कश्मीर के लोगों के लिए इतना काम करेंगे कि लोग देखेंगे। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों जो बदलाव और विकास होगा उसे देखकर पीओके के लोग कहेंगे कि जिंदगी जीने के लिए जम्मू और कश्मीर सबसे बेहतरीन जगह है।

बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गाँधी और विपक्षी दल के मंत्रिमंडल बीते शनिवार को स्थिति का जायजा लेने श्रीनगर पहुंचे थे, लेकिन प्रशासन ने सभी को श्रीनगर हवाई अड्डे पर ही रोक लिया और काफी हंगामे के बाद सभी को वापस दिल्ली लौटा दिया गया।

श्रीनगर से दिल्ली लौटते ही राहुल गांधी ने हवाई अड्डे पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि कुछ दिन पहले मुझे राज्यपाल ने जम्मू-कश्मीर की यात्रा के लिए आमंत्रित किया था। मैंने निमंत्रण स्वीकार कर लिया। हम यह जानना चाहते थे कि वहां मौजूद लोग किस स्थिति से गुजर रहे हैं, लेकिन हमें हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति नहीं दी गई। हमारे साथ प्रेस के लोगों को गुमराह किया गया, पीटा गया। यह स्पष्ट है कि जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं है।