Home World ट्रंप की यात्रा में कश्मीर पर होगी बात? अमेरिकी विदेश विभाग ने...

ट्रंप की यात्रा में कश्मीर पर होगी बात? अमेरिकी विदेश विभाग ने दिया पाक को चिढ़ाने वाला जवाब

430
SHARE

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पहली भारत यात्रा (Donald Trump India Visit) पर सभी लोगों की निगाहें लगी हुई हैं. भारत के साथ साथ पाकिस्तान (Pakistan) भी ट्रंप की यात्रा पर नजरें जमाए हुए है. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या इस यात्रा के दौरान जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) का मामला भी उठेगा. सरकार के सूत्रों के अनुसार, इस सवाल पर अमेरिकी विदेश मंत्रालय (US state department) ने कहा है कि इस मुद्दे को द्विपक्षीय तरीके से सुलझाना चाहिए. अनुच्छेद 370 (Article 370) पर मंत्रालय ने कहा, किसी कानून में बदलाव भारत का आंतिरक मुद्दा है. ये मसले हमारे पीछे हैं. कुछ लोग ये मसला उठाते रहेंगे, लेकिन भारत अमेरिका के सम्बंधों में अब ये महत्वपूर्ण फैक्टर नहीं है.

बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) कई मौकों पर कश्मीर के मुद्दे पर मध्यस्थता की बात कर चुके हैं, लेकिन भारत के द्वारा साफ साफ बता दिया गया है कि वह इस मुद्दे पर किसी तीसरे पक्ष की नहीं सुनेगा. अब अमेरिका की ओर से कहा गया है कि मध्यस्थता दोनों देशों की स्वीकार्यता पर निर्भर करती है. भारत को किसी की मध्यस्थता स्वीकार नहीं है. सरकार के सूत्रों के अनुसार, हमारे अनुसार कश्मीर का मुद्दा इतना अहम नहीं होगा. अमेरिकी प्रतिनिधि अमेरिका जा चुके हैं. हमने ज्यादातर प्रतिबंध वहां से हटा दिए हैं.

पाकिस्तान मिल जाएगा जवाब
बता दें कि पाक बार बार कश्मीर के मुद्दे को वैश्विक स्तर पर उठाता रहा है. वह लगातार इस मुद्दे पर भारत को घेरने की कोशिश कर चुका है. लेकिन उसकी एक भी चली नहीं. अमेरिका के सामने भी उसने कई बार अपना दुखड़ा रोया, लेकिन बात नहीं बनी. अब इस जवाब से उसे निराशा ही हाथ लगेगी.

सूत्रों के अनुसर अफगानिस्तान में शांति का मसला भी डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे के दौरान उठेगा. अमेरिका अफगानिस्तान में तालिबान के साथ शांति समझौते की ओर बढ़ रहा है. भारत के लिए ये एक चिंता का विषय बना हुआ है. इसके तहत अफगानिस्तान से अमेरिकी फौज थोड़े समय में वापस चली जाएगी.

तुर्की को छोड़ सभी देश पाक को ग्रे लिस्ट में रखने के पक्ष में
सरकार के सूत्र के अनुसार, FATF में भारतीय प्रतिनिधिमंडल अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के संपर्क में हैं. तुर्की को छोड़कर FATF के सभी देश पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखने के पक्ष में हैं. FATF की बैठक पेरिस में चल रही है 21 फरवरी तक चलेगी.