Home Jammu Kashmir Kashmir जम्‍मू-कश्‍मीर: पूर्वी लद्दाख में सेना का शक्ति प्रदर्शन, चीन को करारा जवाब

जम्‍मू-कश्‍मीर: पूर्वी लद्दाख में सेना का शक्ति प्रदर्शन, चीन को करारा जवाब

721
SHARE

आसमान से कूदते भारतीय सैनिक, पानी के अंदर चलता टैंक और रात में भी सेना को सप्‍लाई पहुंचाते भारतीय वायुसेना के विमान कुछ ऐसा नजारा दिखा मंगलवार को पूर्वी लद्दाख में। चीन के साथ हालिया तनाव के बीच भारत की सेना के तीनों अंगों ने लद्दाख के ऊंचाई वाले इलाकों में जोरदार युद्धाभ्‍यास कर दुश्‍मन को अपनी ताकत का अहसास कराया।

इस युद्धाभ्‍यास के दौरान उत्‍तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह भी मौजूद थे। बता दें कि इसी इलाके में पिछले दिनों भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई थी। बुधवार को भारत और चीन के सैनिक भी पूर्वी लद्दाख में भिड़ गए। सूत्रों के मुताबिक, भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच काफी देर तक धक्का-मुक्की होती रही। यह घटना 134 किलोमीटर लंबी पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर हुई, जिसके एक तिहाई हिस्से पर चीन का नियंत्रण है।

हालांकि दोनों पक्षों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर पर बातचीत के बाद स्थिति सामान्य हो गई है। एक सूत्र ने बताया, ‘भारतीय सैनिक पट्रोलिंग पर थे और इसी दौरान उनका आमना-सामना चीन के पीपल्स लिब्रेशन आर्मी के सैनिकों के साथ हो गया। चीनी सैनिकों ने इलाके में भारतीय सैनिकों की मौजूदगी का विरोध किया इसके बाद दोनों ओर के सैनिकों में धक्का-मुक्की होने लगी। दोनों पक्षों ने इलाके में अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी, देर शाम तक यह संघर्ष जारी था।

भारतीय और चीनी सेना के बीच धक्का-मुक्की पर जानकारी भी सामने आई थीं। भारतीय सेना ने बताया कि दोनों पक्षों के बीच प्रतिनिधिमंडल बातचीत के बाद तनातनी की स्थिति खत्म हो गई। पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर विवादित फिंगर 5 से फिंगर 8 इलाके में 15 अगस्त 2017 को भी दोनों देशों के सैनिकों में झड़प हुई थी, जिसमें पत्थरों और लोहे के रॉड्स का भी एक दूसरे के खिलाफ इस्तेमाल किया गया था। उसी साल सिक्किम-भूटान-तिब्बत सीमा पर डोकलाम में दोनों सैनिकों के बीच काफी दिनों तक तनातनी रही। 73 दिनों तक एक दूसरे के सामने डटे रहने के बाद सैनिक हटे थे।