Home Jammu Kashmir Kashmir चेनाब घाटी में नागरिकों को हथियार देने की योजना के ‘गंभीर परिणाम’...

चेनाब घाटी में नागरिकों को हथियार देने की योजना के ‘गंभीर परिणाम’ होंगे : महबूबा

351
SHARE

संवेदनशील चेनाब घाटी में नागरिकों को हथियार उपलब्ध कराने की केंद्र और जम्मू कश्मीर प्रशासन की कथित योजना को “खतरनाक” करार देते हुए पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने चेतावनी दी कि इस कदम के “खौफनाक नतीजे” होंगे। उन्होंने कहा कि 1990 के दशक में आतंकवाद रोधी अभियान के तहत नागरिकों को सशस्त्र बनाने के ऐसे ही प्रयोगों से पूरी तरह अफरा-तफरी मच गई थी और आम लोगों को उससे मिले घाव अब भी ताजा हैं। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख ने एक बयान में यहां कहा, “चेनाब घाटी में ग्राम रक्षा समिति (वीडीसी) बनाने के नाम पर प्रशासन द्वारा नागरिकों को हथियार दिए जाने की कोशिशों से जुड़ी खबरें परेशान करने वाली और खतरनाक हैं, खास तौर पर ऐसे वक्त में जब युवाओं को और अलग-थलग महसूस न करने देने के लिए सरकार को समावेशी होने की जरूरत है।” इन समितियों का गठन 1990 के दशक के मध्य में डोडा, किश्तवाड़, रांबा, राजौरी, रियासी, कठुआ और पुंछ जिलों के सुदूरवर्ती और पहाड़ी इलाकों में रहने वाले लोगों की सुरक्षा को मजबूत करने के उद्देश्य से किया गया था।