Home Jammu Kashmir केंद्र सरकार के फैसले के कायल हुए राजनीतिक दल, बंद पड़े मंदिर...

केंद्र सरकार के फैसले के कायल हुए राजनीतिक दल, बंद पड़े मंदिर को दोबारा खोलने के फैसले का किया स्वागत

298
SHARE

कश्मीर घाटी में आतंकवाद का दौर शुरू होने पर कश्मीरी पंडितों के पलायन के बाद बंद पड़े मंदिरों को दोबारा खोले जाने के सरकार के फैसले का राजनीतिक हलकों ने स्वागत किया है। सरकार के इस फैसले को लेकर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता रविंद्र शर्मा ने कहा है कि ये तभी मुमकिन हो सकता है जब घाटी के हालात ठीक होंगे और सुरक्षा-व्यवस्था मज़बूत होगी। मौजूदा समय में बहुसंख्यक भी धार्मिक स्थलों पर नहीं जा पा रहे हैं। वहीं,भाजपा ने सरकार के इस फैसले का स्वगात करते हुए केंद्र सरकार का आभार जताया है। पार्टी नेता और पूर्व एमएलसी विक्रम रंधावा ने कहा कि यह सनातन धर्म के लिए अच्छी खबर है।

दूसरी ओर, पैंथर्स पार्टी के चेयरमैन हर्शदेव सिंह ने कहा है कि घाटी में मंदिरों के बंद होने से लोगों में बड़ा रोश था। सरकार अगर इन मंदिरों को दोबारा खोलती है तो यह घाटी में आने वाले पर्यटकों के लिए यह एक नायाब तोहफा साबित होगा। गारतलब है कि गृह राज्यमंत्री जी.किशन रेड्डी ने सोमवार को कहा था कि सरकार घाटी में बंद पड़े मंदिरों को दोबारा खुलवाएगी जिसका सर्वे करवाया जा रहा है। इसके अलावा कश्मीर घाटी में बंद पड़े स्कूलों के सर्वे के लिए भी एक कमेटी का गठन किया है।