Home Jammu Kashmir Kashmir कश्मीर के हालात पर राज्यपाल मलिक बोले- दस से पंद्रह दिनों में...

कश्मीर के हालात पर राज्यपाल मलिक बोले- दस से पंद्रह दिनों में बदल जाएगी लोगों की राय

513
SHARE

घाटी में दवाओं की कमी की चर्चाओं पर विराम लगाते हुए जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि कश्मीर में आवश्यक वस्तुओं और दवाओं की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने ईद के पर्व पर लोगों के घरों में मीट, सब्जियां और अंडे तक भिजवाए थे। कहा कि दस से पंद्रह दिनों में लोगों की राय बदल जाएगी।

सत्यपाल मलिक ने कहा कि पिछले दिनों कश्मीर में जब भी कोई घटना होती थी तो कम से कम 50 लोग मार दिए जाते थे। हमारी पूरी कोशिश है कि कोई भी हताहत न हो, किसी भी प्रकार की हानि न हो। उन्होंने कहा कि दस दिन टेलीफोन नही होंगे…नहीं होंगे लेकिन हम बहुत जल्दी सब वापस कर देंगे। सत्यपाल मलिक के कहने का आशय था कि जल्द ही घाटी में हालात सामान्य होंगे।

घाटी में दवाओं की कमी को लेकर हो रही तरह-तरह की चर्चाओं के बीच प्रशासन ने कहा कि सरकारी दुकानों और निजी खुदरा विक्रेताओं के पास आवश्यक सभी 376 दवाएं उपलब्ध हैं। साथ ही 62 अन्य आवश्यक जो कि जीवन रक्षक दवाओं की श्रेणी में आती हैं वह भी उपलब्ध हैं।

दवाओं और बच्चे के भोजन की किसी भी समय व्यवस्था करने के लिए तीन व्यक्ति जम्मू और चंडीगढ़ में तैनात किए गए हैं। साथ ही प्रशासन ने बताया कि 1666 में से 1165 मेडिकल स्टोर खले हुए हैं। प्रशासन का कहना है कि कश्मीर घाटी में कुल 630 खुदरा केमिस्ट दुकानें और 4331 थोक दुकानें हैं, जिनमें से 65 फीसदी दुकानें खुली हुई हैं।
प्रशासन का कहना है कि 23.81 करोड़ रुपये की दवाएं पिछले 20 दिनों में खुदरा दुकानों तक पहुंची हैं, जोकि मासिक औसत से थोड़ा अधिक है। कहा कि जम्मू से ऑर्डर पहुंचने का औसत समय 14-18 घंटे है। प्रशासन ने कहा कि करीब 2 दिनों तक घाटी में बेबी फूड की कमी रही, लेकिन अब ताजा स्टॉक मंगाया जा चुका है जोकि अगले 3 सप्ताह के लिए पर्याप्त है। साथ ही उन्होंने दवाओं को लेकर अधिक मूल्य निर्धारण की बात को सिरे से नकारा है।

आपको बता दें कि, घाटी में लोगों को किसी भी प्रकार की समस्या न हो इसके लिए प्रशासन भरकस प्रयास कर रहा है। साथ ही सेना भी लोगों की मदद के लिए जुटी हुई है। शनिवार को सेना ने स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया। जिसमें काफी संख्या में लोग पहुंचे थे।