Home Jammu Kashmir Jammu उपराज्यपाल ने कहा- पाच साल में प्रदेश के 80 फीसद युवाओं को...

उपराज्यपाल ने कहा- पाच साल में प्रदेश के 80 फीसद युवाओं को रोजगार के मौके देंगे, जानिए कैसे

418
SHARE

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने सोमवार को कहा कि हमारा लक्ष्य जम्मू कश्मीर में उद्यमिता और विकास को आगे बढ़ाना है। पेशेवर तकनीकी कौशल विकास का वातावरण तैयार कर स्थानीय युवाओं की उम्मीदों को पूरा करना है।हमने प्रदेश की अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए एक नई औद्योगिक नीति तैयार की है। बाजार में माग और खपत में कुशल कारीगरों की कमी के अंतर को दूर करने के लिए हम प्रदेश में कौशल विकास का वातावरण मजबूत बना रहे हैं। उन्होंने भरोसा दिया कि प्रदेश सरकार अगले पाच वर्ष में 80 फीसद युवाओं को रोजगार अवसर प्रदान करेगी।

उपराज्यपाल ने सोमवार को बैंकिंग, वित्तीय और बीमा सेवा क्षेत्र (बीएफएसआइ) में युवाओं के लिए रोजगार को सुनिश्चित बनाने के लिए आजीविका सृजन प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया। यह कार्यक्रम युवा मिशन जम्मू कश्मीर और बाम्बे स्टाक एक्सचेंज (बीएसई) के बीच तय एक एमओयू के तहत शुरू किया गया है। उपराज्यपाल ने कहा कि प्रदेश सरकार जम्मू कश्मीर के युवाओं के लिए बैंकिंग और वित्तीय सेवा क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर पैदा कर रही है। लोगों में निवेश के विभिन्न विकल्पों के प्रति समझ पैदा होने से बीएफएसआइ सेक्टर में तेजी आई है।अन्य जगहों की तरह जम्मू कश्मीर में भी समाज के विभिन्न वर्गो के लिए इस क्षेत्र में कई संभावनाएं हैं। म्यूचुअल फंड एडवाइजर कैप्सूल कोर्स के लिए चयनियत उम्मीदवारों से कहा कि यह अल्पकालिक प्रशिक्षण कार्यक्रम एक उद्यमी के रूप में उनके जीवन की शुरुआत करेगा। इससे आप न सिर्फ अपने लिए बल्कि दूसरों के लिए भी íआथक खुशहाली व अवसर पैदा कर सकेंगे। यह आपके भविष्य और कैरियर के लिए दुर्लभ अवसर है।शिक्षण कार्यक्रम स्वíणम अवसर: उपराज्यपाल ने कहा कि यह प्रशिक्षण कार्यक्रम को युवाओं को उनके सपनों को पूरा करने का एक स्त्र्विणम अवसर है। आज का दिन जम्मू कश्मीर के युवाओं के लिए एक ऐतिहासिक है। पहली बार बैंकिग और वित्तीय सेक्टर में रोजगारोन्मुख प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हो रहा है। तकनीक के साथ काम करने के लिए विशेष कौलश चाहिए उपराज्यपाल ने कहा कि अत्याधुनिक तकनीक के साथ काम करने के लिए हमें एक विशेष कौशल चाहिए ताकि न्यूकॉलर जॉब के तहत उपलब्ध अवसरों का सही तरीके से लाभ लिया जा सके। जम्मू कश्मीर की 70 फीसद आबादी 35 साल से कम आयु वर्ग की है।

वित्तीय शिक्षा से संबंधित कौशल विकास के लिए हमारा प्रतिभा भंडार तैयार है। मैं इस बात को लेकर पूरी तरह स्पष्ट हूं कि कौशल विकास की पूरी प्रक्रिया सिर्फ प्रशिक्षण तक सीमित नहीं होनी चाहिए, यह रोजगार को सुनिश्चित बनाए। बजट की तारीफ की: आम बजट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश को 49 फीसद से बढ़ाकर 74 फीसद किया गया है। बाड बाजार के लिए एक स्थायी संस्थागत व्यवस्था बनाई गई है। निवेश निधियों के लिए टैक्स छूट और लाभ का प्रबंध किया गया है।

आरबीआइ नियमों के तहत ही कापोरेटिव बैंक को भी बैंकिंग कंपनी में बदलने लायक व्यवस्था बनाई गई है। वर्ष 2021 की आíथक सर्वेक्षण रिपोर्ट में भी बैंकिंग सेक्टर में उल्लेखनीय सुधार का जिक्र है। बैंकों का एनपीए भी 8.2 फीसद से घटकर 7.5 फीसद हो गया है।